तो कैसा लड़का है तू?

A scene from the movie BA Passकुछ फिल्में आप देखते हैं और भूल जाते हैं। कुछ याद रह जाती हैं। और कुछ फिल्में आपका गिरेबान पकड़कर झूल जाती हैं। आप स्तब्ध हो जाते हैं और लंबे समय तक उन्हें अपनी स्मृति से निकाल नहीं पाते। अजय बहल की फिल्म ‘बीए पास’ कुछ इसी तरह की फिल्म है। किशोर मन और बच्चों पर कितना कुछ लिखा गया और कितनी फिल्में बनीं हैं, मगर ‘बीए पास’ इस वय के एक चरित्र की कहानी कहने के बहाने आप का हाथ थामकर उन अंधेरी गलियों की तरफ ले जाती हैं, जिनके बारे में आप हमेशा से जानते हैं मगर उधर कदम बढ़ाने से डरते हैं। यह एक शॉक्ड कर देने वाली फिल्म है और इरोटिक तो कतई नहीं है। हालांकि इसका प्रचार कुछ इसी तरह किया गया मगर यह फिल्म दिल्ली और सेक्स को एक सोशल मेटाफर की तरह इस्तेमाल करती थी। यह ठीक वैसा है जैसे चेक लेखक मिलान कुंदेरा अपने उपन्यासों में सेक्स को एक पॉलिटिकल मेटाफर की तरह इस्तेमाल करते हैं।

‘बीए पास’ दोहरे स्तर पर एक जद्दोजहद लेकर चलती है। अपने माता-पिता की दुर्घटना में मौत के बाद एक बीए का स्टूडेंट अपनी बहनों की परवरिश करने और उन्हें गरीबी के दंश से बचाने के लिए खुद देह व्यापार की दलदल में फंसता चला जाता है। उसका पुरुष होना एक नाटकीय विरोधाभास रचता है, जो इस पेशे की मजबूरी और गलाजत को पर्त-दर-पर्त खोलता जाता है।

फिल्म न्यूयार्क में रहने भारतीय और अंग्रेजी के लेखक मोहन सिक्का की कहानी ‘रेलवे आंटी’ पर आधारित है। क्लाइमेक्स को छोड़ दिया जाए तो निर्देशक बहल कहानी से दाएं-बाएं नहीं गए और उसे इमानदारी से पर्दे पर उतारने में ही अपनी रचनात्मकता दिखाई। फिल्म में दिल्ली शहर एक किरदार, एक रूपक की तरह उभरता है। उल्लेखनीय है कि यह कहानी ‘दिल्ली नॉयर’ संकलन का एक हिस्सा है, जिसमें उदय प्रकाश की कहानी ‘दिल्ली की दीवार’ भी ‘द वाल्स आफ डेलही’ के नाम से शामिल है। फिल्म का परिवेश समझने के लिए सिक्का की लिखी मूल कहानी की आरंभिक पंक्तियों पर गौर करें, जहां वे मुकेश की नजर से दिल्ली को देखते हैं –

“मैं अंधेरे में डूबे छोटे से बरामदे में लेटा हूँ, दिल्ली में बुआ के फ्लैट में मुझे यही जगह मिली है। इसकी खिड़कियां पंचकुइयां रोड की तरफ खुलती हैं, जहां से लगातार हार्न का शोर सुनाई देता रहता है। यहां तक हवा का झोंका भी नहीं पहुंचता। अभी सर्दियों का मौसम शुरु नहीं हुआ और हवा में फटे हुए पटाखों की सल्फर मिली गंध घुली हुई है, जिससे सांस लेना मुश्किल हो जाता है।“

कुछ इसी तरह निर्देशक अजय बहल भी छोटी-छोटी चीजों से एक वातावरण बुनते हैं। यह वातावरण ही चरित्रों को विश्वसनीय बनाता है। फिल्म छोटे-छोटे दृश्यों और मामूली से लगने वाले संकेतों के जरिए अपनी बात कहती चलती है। फिल्म के बड़े हिस्से में हमें अंधेरी दिल्ली दिखती है मगर उनके बीच रोशनी और रंग भी उभरते हैं और उदासी को गहरा करते हैं। फिल्म के भीतर कहानी शुरु होती है एक शोक सभा से। हम समझ जाते हैं कि नायक के माता-पिता नहीं रहे और उसकी दो बहनें हैं। वायसओवर में मुकेश (शादाब कमल) की आवाज सुनाई देती है- “मां-बाप का जल्दी मरना कभी हादसा नहीं लगता, कभी मौत नहीं लगती… सिर्फ धोखा लगता है। खाली किसने दिया… समझ में नहीं आता है।”  बीए का स्टूडेंट मुकेश कुछ कमाने लायक हुआ नहीं। दो बहनें भी हैं। परवरिश का जिम्मा बुआ पर आता है। मुकेश अपनी बुआ और रिश्तेदारों से कहता है- “मैंने कहीं नहीं जाना है, यहीं रहना है। सोनू और छोटी का ख्याल रखना है…”  और जैसे इसी संवाद के साथ ही फिल्म की बेसलाइन तैयार हो जाती है। सीन अंधेरे में फेड-इन होता है और कुछ झूलते-जगमगाते रंगों के साथ पर्दे पर शीर्षक उभरते हैं।

मुकेश के रोल को शादाब ने बड़ी सहजता से निभाया है। उनके पास नाटकीय होने के मौके थे, मगर शादाब उस लालच में नहीं पड़े। उनका अंडरप्ले ही दरअसल उस चरित्र को विश्वसनीयता प्रदान करता है। थोड़े ही दिनों में मुकेश को समझ में आ जाता है कि वह अपनी बुआ और उसके बेटे की आंखों में खटकने लगा है। कालेज और घर के बीच भटकते हुए वह एक क्रिश्चियन कब्रिस्तान में शतरंज खेलते हुए टाइम पास करता है, जहां उसकी मुलाकात वहीं काम करने वाले जॉनी से होती है और यह चरित्र दिव्येंदु भट्टाचार्य के सजीव अभिनय के कारण याद रह जाता है। जॉनी कहता है, “यह दिल्ली है, यहां हर कोई चोर है। यहां अच्छे टाइम में प्लॉट कटते हैं, बुरे टाइम में जेब और खराब टाइम में गले…”

कहानी में अहम मोड़ आता है बुआ के घर किटी पार्टी से, जहां सारिका (शिल्पा शुक्ला) भी आई है। वहां से शुरु होता है लालच का एक खेल- सेबों की पेटी के बहाने सारिका पहली बार मुकेश को सिड्यूस करती है। फिल्म का एक छोटा सा दृश्य है, जब मुकेश पहली बार सारिका के घर जाते वक्त सीढ़ियां चढ़ता है। यह है तो कुछ सेकेंड का- मगर पार्श्व में बजता संगीत उसके जीवन में जल्दी ही छा जाने वाले अंधेरे और त्रासदी का संकेत देता है। कॉलबेल बजाने से पहले मुकेश की घबराहट और बूढ़ी बीजी का अटपटे ढंग से उसे चेताना इस संभावित त्रासदी के रंग को और गहरा करता जाता है। आखिर सारिका से उसकी मुलाकात होती है। सारिका का इरादा स्पष्ट है। शिल्पा ने सारिका के चरित्र को एक नाटकीय रंग दिया है। एक ढीठ, सेक्सुअली फ्रस्ट्रेट और चालाक स्त्री के किरदार को उन्होंने पूरे आत्मविश्वास के साथ निभाया है।

सेक्स दृश्यों के फिल्मांकन में कई बड़े निर्देशक भी तटस्थ नहीं रह पाते मगर अजय बहल का कैमरा इन दृश्यों में एक दूरी बनाकर रखता है। मुकेश को अकेले में फुसलाने के बाद दोनों के बीच पहला लंबा चुंबन सेंसुअस नहीं है। वहां पर भी संगीत एक भय और उदासी का वातावरण रचता है। यह उदासी इतनी गहरी होती जाती है कि जब सारिका सोफे पर बैठे मुकेश के सामने खुद को सामने निर्वस्त्र कर रही होती है तो सेक्स का यह खेल विवशता और पैसे की ताकत के खेल में बदलता नजर आता है। हमेशा सेक्स के इस खेल में ताकत का प्रतीक पुरुष यहां निरीह नजर आता है।

आगे लगातार आने वाले सेक्स दृश्यों के बेहद कलात्मक मोंताज में भी पार्श्व संगीत हमें स्क्रीन पर नजर आ रहे दृश्यों से परे लेकर जाता है। इन दृश्यों का छायांकन अद्भुत है। निर्देशक इन पात्रों की शारीरिक भंगिमाओं और उनके चेहरे के एक्सप्रेशन तो दिखाता है मगर यह सब कुछ उनके आसपास की तमाम आउट ऑफ फोकस यानी धुंधली सी नजर आ रही चीजों के बीच घटित हो रहा होता है, जो इस पूरी दृश्य श्रृंखला को नियतिपरक बना रहा होता है। फिल्म के हर पात्र की नियति के बीज उसके भीतर छिपे नजर आते हैं, मगर यहां यह स्पष्ट करना जरूरी है कि फिल्म में यह सब अमूर्त नियति के खेल की तरह सामने नहीं आता है- यह ठोस सामाजिक नियति है- जिसके आगे हम एक-एक करके इन चरित्रों को हौसला खोले और पराजित होते देखते हैं।

मुकेश की जिंदगी में कदम-दर-कदम पराजय का यह सिलसिला आगे बढ़ता जाता है। मुकेश की जिंदगी में फिर एक झटका आता है। थोड़े-बहुत खर्चे भेजने वाले दादाजी भी चल बसे। उसके फूफा फैसला लेते हैं- “छोटी और सोनू को होम में डलवा देते हैं… पम्मी अकेली कितना कर लेगी।” बहनों के घर छोड़कर जाने का दृश्य मार्मिक है। बारिश में मुकेश की दोनों बहनों को हम रिक्शे में बैठकर एक अनिश्चित भविष्य की तरफ जाते देखते हैं। मुकेश का संघर्ष बढ़ता जाता है। उसे पता चलता है कि हॉस्टल की संचालिका की गतिविधियां ठीक नहीं हैं। वह अपनी बहन को मोबाइल देता है ताकि उनके संपर्क में रह सके। अब मुकेश को और ज्यादा पैसे चाहिए। सारिका उसे चालाकी से इस्तेमाल करना शुरु करती है और अपने जैसी कई दूसरी महिलाओं के पास एक पुरुष वेश्या की तरह भेजना शुरु कर देती है।

शुरु में मुकेश का प्रतिरोध सारिका की लगातार चलने वाली दलीलों के आगे कमजोर होता जाता है। वह एक दिन सारिका से कहता है- “मेरे से नहीं होगा… मैं ऐसा लड़का नहीं हूं।” इस सीधे-सादे संवाद का मर्म गहरा है। मुकेश की जिंदगी और कठिन इसीलिए होती जा रही है क्योंकि ‘वह ऐसा लड़का नहीं है’। इसके जवाब में सारिका व्यंग से पूछती है- “अच्छा! कैसा लड़का है तू?” सारिका उसे समझाती रहती है- “पैसा कैसे आता है यह मत सोच, आता है और आता रहेगा, यह जानकर खुश रह…” जब मुकेश जानना चाहता है कि क्या वह सारिका को अच्छा नहीं लगता तो वह जवाब देती है- “सब अच्छा लगता है मुझे… तू भी अच्छा लगता है… दिल्ली की सोसाइटी मे शादी के लाइसेंस से जो कुछ भी मिलता है सब अच्छा लगता है।”

धीरे-धीरे दिल्ली का अंधेरा फिल्म पर हावी होता जाता है। पैरों की एड़ियां रगड़ने वाले घिसे-पिटे सेक्स दृश्य को निर्देशक ने लगातार डिज़ाल्व के जरिए जैसे एक पूरी सोसाइटी का रूपक बना दिया। कुछ ऐसे ही खूबसूरत दृश्य रात के अंधेरे में पुल से गुजरती खाली मेट्रो के हैं। घटनाएं आगे कई मोड़ लेती हैं। सारिका का पति उसे मुकेश के साथ रंगे हाथों पकड़ लेता है। सारिका न सिर्फ अचानक मुकेश से संबंध तोड़ लेती है बल्कि उसके पैसे भी हड़प लेती है। मुकेश को अचानक पैसे मिलने बंद हो जाते हैं। इसी बीच उसकी बहनें हॉस्टल छोड़ने का फैसला कर लेती हैं।

इसके बाद फिल्म का सबसे मार्मिक दृश्य सामने आता है जब मुकेश फोन करके दोबारा उन महिलाओं से संपर्क करने की कोशिश करता है- “हलो.. जी, कविता जी… मैं मुकेश बोल रहा हूं! हलो, मिस रीना.. जी मैं मुकेश बोल रहा हूं… जी… आपने फोन नहीं किया इसलिए सोचा कि… जी, रांग नंबर… काजल जी बोल रही हैं? उषा जी… वंदना जी… जी, सॉरी अबसे फोन नहीं करूंगा…” आखिरकार वह एक समलैंगिंक वेश्या के रूप में सड़क पर जाकर खड़ा हो जाता है। इस धंधे में उसकी इंट्री करना वाला नौजवान उसकी घबराहट देखकर उसे शराब की बोतल देता है और कहता है- “पी ले! मर्द को भी दर्द होता है…”  इसके बाद जो कुछ घटित होता है निर्देशक ने उसे किसी दुःस्वप्न की तरह प्रस्तुत किया है। मुकेश को पैसे नहीं मिलते हैं। हताशा के चरम पर पहुंचा मुकेश अंततः सारिका के घर से अपने पैसे चुराने का फैसला करता है। वहां उसकी मुठभेड़ सारिका से होती है और उसी वक्त उसका पति दरवाजा खटखटाने लगता है। घटनाएं तेजी से घटने लगती हैं। सारिका को चाकू मारकर मुकेश वहां से भाग खड़ा होता है।

क्लाइमेक्स में जब मुकेश भागता है तो हम समझ चुके होते हैं कि उसके लिए सारे दरवाजे बंद हो चुके हैं। जॉनी जो हमेशा मॉरीशस जाने के सपने देखता था, अपना कमरा छोड़कर जा चुका है। जब पुलिस मुकेश का पीछा कर रही होती है तो उसका फोन बजता है। उसकी बहनें बस स्टैंड पर उसका इंतजार कर रही होती हैं।

“हलो भइया! आप कहां हो? आप आए नहीं अभी तक? हम कब तक खड़े रहेंगे यहां पर? ये सीधी-सपाट आवाजें आपके कलेजे को चीर जाती हैं। खास तौर पर तब जब आप फिल्म के क्रेडिट्स पर्दे पर उभरने से ठीक पहले कहे गए मुकेश के संवाद के बरक्स इन्हें रखते हैं- “मैंने कहीं नहीं जाना है, यहीं रहना है। सोनू और छोटी का ख्याल रखना है…” मगर उस वक्त दृढ़ता से खड़ा मुकेश अब भाग रहा होता है। सोनू और छोटी आधी रात को बस स्टैंड पर अकेली उसका इंतजार कर रही होती हैं। मुकेश के पास जान बचाने का विकल्प भी खत्म हो चुका है।

‘बीए पास’ का मर्म उसकी कथा संरचना की निरंतरता में आकार लेता है। इस फिल्म को टुकड़ों में नहीं समझा जा सकता। यह फिल्म निर्ममता का दिखावा किए बिना हमारे बीच के एक निर्मम सत्य को सामने रख देती है। यह फिल्म बताती है कि कड़वी हकीकत को बयान करने के लिए जिंदगी की कोमलता और संवेदनशीलता की पहचान होना कितना जरूरी है।

29 Replies to “तो कैसा लड़का है तू?”

  1. Distance Education

    Thanks for sharing excellent informations. Your web site is so cool. I am impressed by the details that you¡¦ve on this web site. It reveals how nicely you understand this subject. Bookmarked this website page, will come back for extra articles. You, my pal, ROCK! I found simply the info I already searched everywhere and just could not come across. What an ideal web site.

  2. Spa Treatments

    Wonderful goods from you, man. I’ve understand your stuff previous to and you are just extremely magnificent. I really like what you have acquired here, really like what you are stating and the way in which you say it. You make it entertaining and you still care for to keep it wise. I can not wait to read much more from you. This is really a terrific site.

  3. hawaii hotels

    I wish to show my appreciation for your kindness in support of men who must have guidance on that situation. Your real dedication to passing the message all around had been especially functional and have constantly enabled professionals much like me to get to their dreams. Your personal informative guideline implies much to me and a whole lot more to my colleagues. With thanks; from each one of us.

  4. Prom Dresses

    I like the helpful info you provide in your articles. I will bookmark your blog and check again here regularly. I am quite certain I’ll learn many new stuff right here! Best of luck for the next!

  5. weblink

    What i do not realize is in reality how you are now not really much more neatly-favored than you might be right now. You’re very intelligent. You realize therefore considerably in relation to this topic, made me in my opinion believe it from a lot of various angles. Its like women and men are not interested unless it’s something to accomplish with Woman gaga! Your individual stuffs excellent. All the time deal with it up!|

  6. ernaehrungsumstellung im focus

    I’m amazed, I have to admit. Seldom do I come across a blog that’s equally educative and interesting, and let me tell you, you have hit the nail within the head. The problem is something not enough men and women are speaking intelligently about. I am very happy that I stumbled across this during my search for something concerning this.

  7. Kidney Failure

    Thanks for the sensible critique. Me & my neighbor were just preparing to do a little research on this. We got a grab a book from our local library but I think I learned more clear from this post. I’m very glad to see such magnificent information being shared freely out there.

  8. Business Development

    Its like you read my mind! You appear to know a lot about this, like you wrote the book in it or something. I think that you can do with a few pics to drive the message home a little bit, but other than that, this is fantastic blog. A great read. I will certainly be back.

  9. thyroid symptoms

    I want to show my appreciation to this writer for rescuing me from such a instance. Right after looking out throughout the the net and meeting ways which are not helpful, I thought my life was gone. Being alive minus the solutions to the difficulties you’ve solved as a result of your good post is a serious case, and those which may have in a wrong way affected my entire career if I hadn’t come across the blog. Your own personal training and kindness in handling every item was priceless. I don’t know what I would have done if I had not come across such a thing like this. I am able to at this point look ahead to my future. Thanks very much for the expert and result oriented guide. I will not be reluctant to endorse your blog post to any person who will need support about this subject.

  10. car audio

    Thanks for sharing superb informations. Your web site is so cool. I am impressed by the details that you¡¦ve on this web site. It reveals how nicely you understand this subject. Bookmarked this web page, will come back for more articles. You, my pal, ROCK! I found just the information I already searched all over the place and just couldn’t come across. What a perfect web-site.

  11. Digital Camera

    I do trust all the concepts you’ve introduced in your post. They’re really convincing and can definitely work. Nonetheless, the posts are very quick for novices. May just you please lengthen them a little from next time? Thank you for the post.

  12. Toyota Supra

    I¡¦ve read several good stuff here. Certainly price bookmarking for revisiting. I surprise how much attempt you put to make any such fantastic informative web site.

  13. living room decorating idea

    Great ¡V I should definitely pronounce, impressed with your web site. I had no trouble navigating through all the tabs as well as related information ended up being truly easy to do to access. I recently found what I hoped for before you know it in the least. Reasonably unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or anything, site theme . a tones way for your customer to communicate. Excellent task..

  14. winter clothes

    Wow, wonderful weblog layout! How lengthy have you been running a blog for? you made running a blog glance easy. The full look of your site is fantastic, as neatly as the content!

  15. Pingback: Real Estate
  16. website here

    I just want to tell you that I’m very new to weblog and truly loved your web page. Probably I’m planning to bookmark your site . You definitely have beneficial well written articles. Bless you for revealing your blog site.

  17. find this

    I simply want to mention I am just new to blogging and honestly savored this page. Most likely I’m likely to bookmark your blog post . You certainly have outstanding article content. Appreciate it for revealing your web site.

    • Discover More

      I just want to mention I’m new to blogging and seriously savored you’re website. Most likely I’m likely to bookmark your site . You absolutely come with terrific article content. Thanks for revealing your blog site.

Comments are closed.