अपने पर भरोसा है तो ये दांव लगा ले…

विक्रमादित्य मोटवानी इसलिए जिक्र करने लायक निर्देशक हैं क्योंकि उनकी फिल्मों में हड़बड़ी नहीं है। न तो जल्दी-जल्दी कहानी कहने की, न खुद को इंटैलेक्चुअल बताने की और न ही बेवजह एक भव्य फिल्म बनाने की। उनका कैमरा उतना ही और उन्हीं चीजों को दिखाता है, जिसकी कहानी कहने में जरूरत है और तब हमें अहसास होता है कि दरअसल सबसे जरूरी बातें तो यही थीं, और तब हर एक घटना का मतलब साफ होता चला जाता है। चाहे वह ‘लुटेरा’ फिल्म में सादे कैनवस पर उकेरी गई बदरंग पत्तियां हों या ‘उड़ान’ में हर सुबह पिता के साथ दौड़ लगाता और थककर हांफता किशोर।

विक्रमादित्य मोटवानी पर आगे चर्चा करने से पहले हम उस परिदृश्य पर भी एक नजर डालते हैं, जिसके बीच उनकी रचनात्मकता का मूल्यांकन होना है। बीते एक दशक में हिन्दी सिनेमा काफी बदल चुका है। इसकी बड़ी वजह फिल्मों के वितरण और बाजार में आया बदलाव है। सिनेमा में लोकेशन का महत्व, तकनीकी चकाचौंध और प्रोडक्शन की गुणवत्ता बढ़ी है, मगर इसके साथ ही कहानी लयबद्धता कहीं खो गई है। फिल्म को मीडिया के बीच चर्चा लायक बनाने और बाजार में टिकाए रखने का दबाव उनकी रचनात्मकता पर साफ नजर आता है। विक्रमादित्य मोटवानी अपनी दो फिल्मों के जरिए इसी लय के प्रति हमें आश्वस्त करते हैं। कि यह लय धुंधली भले ही पड़ गई हो मगर खत्म नहीं हुई है। मोटवानी शायद इसे इसलिए भी संभव कर पाते हैं क्योंकि उन्होंने अपनी रचनात्मकता को सामने लाने से पहले सिनेमा को गढ़ने में कई तरह की भूमिकाएँ निभाई हैं। दो शार्ट फिल्मों का निर्देशन, ‘पांच’ और ‘देवदास’ के साउंड डिपार्टमेंट से जुड़ना, ‘वाटर’ फिल्म के छायांकन और ‘पांच’ के संगीत में दखलंजादी बताती है कि मोटवानी की दिलचस्पी विभिन्न विधाओं में है और उसके संतुलन से वे एक बेहतर कहानी बुन सकते हैं।

Sonakshi an innocent girl in first half of Looteraसन् 1953 की पृष्ठभूमि पर बुनी गई ‘लुटेरा’ की प्रेम कहानी को हम किसी संगीत रचना की तरह महसूस कर सकते हैं। किताबों की शौकीन पाखी (सोनाक्षी सिनहा) के जीवन में वृद्ध होते जमींदार पिता के प्रति चिंताओं और अस्थमा के अटैक के बीच एक खूबसूरत नौजवान (रणवीर सिंह) दाखिल होता है। वरुण नाम का यह युवक खुद को एक आर्कियोलॉजिस्ट बताता है और अपने विनम्र स्वभाव के चलते जमींदार के घर में ही मेहमान बन जाता है। पाखी और वरुण के बीच शुरुआती शरारतों और चुहलबाजियों का दौर जल्दी ही नज़दीकियों में तब्दील हो जाता है। रेडियो पर बजते गीत, नागार्जुन की कविता और कैनवस पर उकेरी जा रही पत्तियों के बीच इन दोनों की नज़दीकी प्यार में बदलने लगती है। इसी बीच भारत सरकार जमींदारी प्रथा को एक कानून के जरिए खत्म कर देती है। सरकारी बाबुओं की लूट-खसोट के बीच जमींदार के मन में अपनी बेटी की शादी का उत्साह है। मगर वरुण एक आर्कियोलॉजिस्ट नहीं लुटेरा निकलता है। जमींदार के पुश्तैनी मंदिर से कीमती मूर्ति के साथ वह गायब हो जाता है।

कहानी का दूसरा हिस्सा शुरु होता है एक साल बात। यह हिस्सा एक त्रासद आर्केस्ट्रा की तरह है। पाखी के पिता गुजर चुके हैं। अतीत की कड़वी यादों के सहारे बीमार पाखी अपने अंतिम दिनों की तरफ बढ़ रही है। तभी उस शहर में एक बार फिर वरुण लौटता है। अपने असली चेहरे के साथ। दोनों आमने-सामने आते हैं मगर उनके बीच न सिर्फ एक बड़ा फासला है बल्कि एक कड़वाहट भी है। कहानी अपने अंत की तरफ बढ़ती है तो हम एक असाधारण कैमरा वर्क के बीच फिल्म को एक अनूठी परिणति तक पहुंचते देखते हैं। ‘लुटेरा’ भले ही ‘उड़ान’ जितनी बहुआयामी छवियों वाली फिल्म न हो, मगर कम संवादों वाली इस फिल्म को देखने में एक कंपोजिशन का आनंद मिलता है।

गौर करें तो अपनी तल्खी के बावजूद यह सांगीतिक संगति ‘उड़ान’ में भी थी। वह फिल्म अपने संगीत की तरह घुटन भरे जीवन से बाहर भागने की उन्मुक्तता और खुले आकाश में उड़ान को अभिव्यक्त करती थी। फिल्म में हर रोज अपने पिता के साथ दौड़ लगाते रोहन का दृश्य बार-बार आता है। दुहराव की हद तक। मगर फिल्म के अंत में जब यही किशोर अपने पिता पर तंज़ करता है और तिलमलाया पिता उस पर झपटता है तो हम बाप-बेटे को एक बार फिर दौड़ लगाते देखते हैं। मगर इस बार जिंदगी कुछ और कह रही है। बेटे के पैरों में तो मानों पंख लग गए हैं। यह उसके जीवन की निर्णायक दौड़ बन जाती है। अपने धन, सामाजिक रुतबे और शारीरिक बल पर दंभ करने वाला पिता उसके छलकते पानी जैसे निश्छल आवेग से कदम नहीं मिला पाता है। वह पीछे छूट जाता है और बेटा दौड़ता चला जाता है, वह जान लड़ाकर दौड़ता है- अपने वक्त, अपने अतीत और जिंदगी की तमाम कड़वाहटों को छोड़ता हुआ। कैमरे के किसी चमत्कृत कर देने वाले प्रभाव के बिना हम युवा नायक के साथ खुले आसमान में छलांग लगा देते हैं।

‘लुटेरा’ और ‘उड़ान’ फिल्म देखते हुए मुझे कई बार पुराने रूसी उपन्यासों की याद आई। खास तौर पर तुर्गनेव और चेखोव की। ‘लुटेरा’ देखते हुए शायद तुर्गनेव के उपन्यास मन में कौंध सकते हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि उनकी फिल्मों में परिवेश लगभग एक अहम किरदार की तरह मौजूद होता है। ठीक इसी तरह ‘उड़ान’ में चेखोव की उदास संवेदनशीलता बिखरी पड़ी है। फिल्म का वातावरण जैसे एक चरित्र बन जाता है। ट्रेन, सड़कें और फैक्टरियों से उठता धुआं तो सीधे तुर्गनेव की उदास शामों और छितिज के अपरिमित विस्तारवाले दृश्यों की याद दिलाता है। वहीं पात्रों के भीतर का सूनापन महसूस करते हुए कहीं मन में चेखोव कौंध जाते हैं।

जहां ‘उड़ान’ में मां की याद, निरुदेश्य से जीवन और संशय से भरे भविष्य के साथ यह सूनापन पूरी फिल्म में छाया हुआ है, ‘लुटेरा’ में यह दूसरे हिस्से में दोनों ही पात्रों पाखी और वरुण के भीतर विस्तार लेता है। इस पर गौर करना हो तो बंद अंधेरे कमरों में दोनों के बीच संवादों को याद करें। जिनमें एक गुस्सा, जिद और झुंझलाहट है। जहां प्रेम एक सतही भावाभिव्यक्ति नहीं है बल्कि उन चिंगारियों की तरह है जो अतीत की राख में दबी कभी-कभार कौंध जाती हैं। पाखी को जबरदस्ती दवा का इंजेक्शन लगाने का दृश्य हो या उसे सोता हुआ छोड़कर वरुण का बाहर निकल जाना हो।

Pakhi loves Varnun, a scene from Looteraविक्रमादित्य ऐसा इसलिए संभव कर पाते हैं क्योंकि उन्होंने पर्दे पर जीवन की लय को समझ पाने के एक असाधारण कौशल को साध लिया है। तालाब के किनारे बैठे दोनों चरित्रों के बीच फुसफुसाहट में वह लय दिखती है, या फिर उस वक्त जब ‘लुटेरा’ का नायक सादे कैनवस पर बदरंग सी पत्तियां बना देता है। नायिका पाखी के साथ उसकी नादानी और कला की समझ पर हंसती हैं। मगर यह इस हँसी का मर्म आगे चलकर तब समझ में आता है जब रोज-ब-रोज गिरती बर्फ के बीच खुद से पेड़ की छाल पर बनाई गई एक पत्ती को बांधने वही नायक पेड़ पर चढ़ जाता है। एक नज़र में यह सिनेमाई कौतुक लग सकता है। मगर जब आप इस घटना को कही जा रही कहानी के अतीत और इस दौरान विकसित हो रहे चरित्रों के संदर्भों में देखते हैं तो किसी कविता की तरह उसके अर्थ खुलने लगते हैं। फिल्म के कुछ यादगार मोंताज में एक वह भी है जब पार्श्व में रेडियो पर “अपने पे भरोसा है तो ये दांव लगा ले…” गीत बज रहा होता है। अगर आप गौर करें तो इस गीत का चयन विक्रमादित्य ने अनायास ही नहीं किया है। गीत की शोखी और उसमें छिपी उदासी की परछाईं पूरी फिल्म में नजर आती है।

इंटरवल तक तो कहानी हमें यही बताती है कि हमारा नायक अपने हालातों की वजह से जीवन में पहली बार प्यार देने वाले लोगों का भी विश्वास खो देता है। बाद में यही नायक किसी के विश्वास को कायम रखने के लिए एक बनावटी पत्ती को सूखी टहनी पर टांकने के लिए चढ़ जाता है। बर्फ के तूफान के बीच यह दृश्य धोखे और हकीकत, फरेब और विश्वास, मृत्यु की आहट और जीवन के प्रति यकीन का ऐसा रूपक बन जाता है, जो हाल-फिलहाल की फिल्मों में दुर्लभ है। वरुण प्रेम के जरिए अपने-आप को पाना चाहता है और अपने अपराधी अतीत को मिटाने की कोशिश में लग जाता है। गीत की पंक्तियां इस हिस्से पर सटीक बैठती हैं- “डरता है ज़माने की निगाहों से भला क्यूँ/ निगाहों से भला क्यूँ / इनसाफ़ तेरे साथ है इलज़ाम उठा ले/ अपने पे भरोसा हैं तो ये दांव लगा ले…” मुझे याद नहीं आता कि बीते दिनों की कुछ बहुत बेहतरीन फिल्मों में से भी ऐसी कितनी हैं जिन्हें पर्त-दर-पर्त खोलने में आपकी दिलचस्पी होगी।

इसकी शायद एक बड़ी वजह यह है कि विक्रमादित्य मोटवानी की फिल्में वह नहीं बोलती जो दिखाती हैं। ठीक जिंदगी की तरह- जहां सतह में नहीं उसके परे जीवन का मर्म छिपा हुआ होता है। ‘उड़ान’ में बहुत कुछ नहीं घटित होता है। फिल्म एक छोटे से भावनात्मक सफर को प्रस्तुत करती है। हॉस्टल में रहने वाला एक लड़का जब अपने घर लौटता है तो उसके सामने टूटे हुए रिश्तों, घुटन और अपनी मां की यादों के सिवा कुछ भी नहीं होता है। ऐसे परिवार आम तौर पर नहीं मिलते हैं मगर इन अवास्तविक स्थितियों में नायक की घुटन और उसकी छटपटाहट को हम गहराई से महसूस कर पाते हैं। ठीक इसी तरह ‘लुटेरा’ के दूसरे हिस्से में नायक का एक बर्फीले पहाड़ी शहर में लौटना एक अलग कहानी की तरह है। इस हिस्से को एक छोटी मगर संपूर्ण फिल्म की तरह देखा जा सकता है। जहाँ अपनी आसन्न मृत्यु में अकेली, उदास, जिंदगी के दिनों को गिनती एक लड़की मौजूद है। जो इंतजार की उम्मीदें खत्म कर चुकी है। फिल्म के इस हिस्से में एक नीम अंधेरा है। मगर यह ‘फैशनेबल डार्क फिल्म’ नहीं है। इसमें पश्चिम से आयातित वह नैराश्य और कड़वाहट नहीं है जो हमें अनुराग कश्यप (समीक्षक क्षमा करें) समेत हाल के कई ऑफबीट फिल्म निर्देशकों के काम में दिखती है। मोटवानी उम्मीद की डोर को थामे रहते हैं, मगर एक संशय के साथ। टॉमस हॉर्डी के उपन्यासों की तरह पात्रों की नियति उनके भीतर ही छिपी होती है। घटनाओं का बेतरतीब सिलसिला उन्हें किसी अनजान भविष्य की तरफ घसीटता चला जाता है। और निराशा के इस घटाटोप में वे अचानक हमें उम्मीद की एक नन्ही सी किरण दिखाकर आगे बढ़ जाते हैं।

Sonakshi in second half of Looteraसिर्फ एक किरण… हमें यह कभी पता नहीं चलेगा कि ‘लुटेरा’ में बर्फीले तूफान के बाद भी सूखे पेड़ पर टंगी पत्ती पाखी की जिंदगी में कौन सा नया मोड़ लेकर आएगी। या अपने छोटे से सौतेले भाई को लेकर घर से निकला रोहन किस अनिश्चित भविष्य की तरफ जा रहा है। मोटवानी की सफलता उम्मीद की उस नन्ही किरण को दर्शकों तक पहुंचाने भर में है। इन दोनों फिल्मों का अंत हमारे जीवन में आई उन सुबहों की तरह है जब हम पूरी रात जगे और बुरी तरह से थके हुए होते हैं। मगर सुबह छितिज पर लाल रंग की आभा, हवा के ठंडे झोंके और पंक्षियों का कलरव फिर से हमारे टूटन भरे शरीर में ताजगी भर देता है। ‘उड़ान’ और ‘लुटेरा’ दोनों के क्लाइमेक्स शायद इसी वजह से हिन्दी सिनेमा के कुछ श्रेष्ठ क्लाइमेक्स में रखे जाने चाहिए।

हालांकि ऐसा नहीं है कि ‘लुटेरा’ एक त्रृटिहीन फिल्म है। उसकी काव्यात्मकता और संवेदनशील हो सकती थी और दुख के रंग और गहरे। कुछ मामलों में मोटवानी अपनी पिछली फिल्म ‘उड़ान’ से पीछे रह गए हैं। इस फिल्म का परिवेश उसे खूबसूरत तो बनाता है मगर ‘उड़ान’ के जमशेदपुर जैसा यथार्थपरक विस्तार लेकर नहीं आता। कुछ छोटे चरित्र भी उतने विश्वसनीय नहीं बन पाते जितना ‘उड़ान’ के राम कपूर। वरुण के भीतर का अंतर्द्वंद्व और उभर सकता था। और शायद गोली से घायल, बीमार और ऊंचाई से नीचे गिरने के बाद नायक की मृत्य के लिए पुलिस को गोलियां चलाने की जरूरत नहीं थी।

इसके बाद भी अगर यह एक महत्वपूर्ण फिल्म बनती है तो दरअसल कहानी के परे अंर्तनिहित मूल्यों के कारण, जिसे हमने पहले इंगित किया था। ‘लुटेरा’ फरेब और यकीन की कहानी कहती है। पूरी कहानी, चरित्र और परिस्थितियां इन दोनों शब्दों के बीच झूलते रहते हैं। इस फिल्म के नायक और नायिका दोनों ही विभाजित मनःस्थिति वाले हैं। वरुण कहानी में एक मुखौटे के साथ प्रवेश करता है। एक भावुक और सहज सा दिखने वाला युवा। जिसे पाखी सहज ही चाहने लगती है। मगर इंटरवल के बाद जब नायक का मुखौटा उतरता है तो हम उसे एक भगोड़े हत्यारे के रूप में देख रहे होते हैं। पहले हिस्से में उसके नकली चेहरे के आसपास एक भरोसे और मासूमियत का संसार मौजूद था मगर दूसरे हिस्से में जब वह अपने वास्तविक चेहरे के साथ सामने आता है तो उसके चारो तरफ घृणा, अविश्वास और हिंसा से भरा वातावरण नजर आता है।

फिल्म की नायिका पाखी का संसार भी अनोखा है। सोनाक्षी ने इसे उतने ही सहज तरीके से प्रस्तुत भी किया है। पहले हिस्से में जहां वह उन्मुक्त और बेफिक्र है, वहीं दूसरे हिस्से में बिना लाउड हुए सोनाक्षी ने किरदार के आत्मसंघर्ष को अभिव्यक्त किया है। कठिन क्षणों में भी अपना आत्मविश्वास बनाए रखने वाली एक युवती के रूप में सोनाक्षी ने किरदार को अद्भुत अभिव्यक्ति दी है। पहले हिस्से में युवा मन की तरंगों के साथ अकेलेपन और मृत्यु का संशय उसके आसपास मंडराता रहता है, उसके आसपास का सामाजिक और राजनीतिक वातावरण तेजी से बदलता नजर आता है और वह उस बदलाव के साथ जीने का संकल्प लेती दिखती है। बिजली के बल्ब जलाने-बुझाने का दृश्य न सिर्फ पाखी के चरित्र की गहराइयों में झांकने के लिए बल्कि फिल्म की संचरना को भी एक सुंदर विस्तार देता है। वहीं दूसरे हिस्से की पाखी बिल्कुल अलग है। उसके पास भविष्य की उम्मीदें बिल्कुल खत्म हो चुकी हैं। उसके जीवन का यह हिस्सा एक अनवरत लंबी रात की तरह है। जिसमें दुःस्वप्न की तरह उसका पुराना फरेबी प्रेमी भी लौट आया है। ऐसे घनघोर अविश्वास, घृणा और संशय में ओ हेनरी से प्रेरित पत्तियों के गिरने की उपकथा के माध्यम से दरअसल फिर से भरोसे की कोंपलें पनपने लगती हैं। मगर यहां वरुण का यह समर्पण किसी और के लिए नहीं खुद के लिए है। यह उसका अपने-आप से वादा है। यह उसका अपना प्रायश्चित है। यहीं पर आकर फिल्म बड़ी बन जाती है।

आखिरी दृश्य में अद्भुत छायांकन की चर्चा के बिना इस फिल्म पर बात अधूरी होगी। गिरती बर्फ के बीच पेड़ पर चढ़ रहे वरुण का दृश्य जब सामने आता है तो फिल्म कविता में बदलने लगती है। यह एक सपाट कहानी भर नहीं रह जाती और हमारे समामने मायने खुलने लगते हैं।

इन खुलते मायनों का सारांश फिल्म के आरंभिक हिस्से में रेडियो पर रह-रहकर बजने वाले गीत “अपने पे भरोसा है…” की पंक्तियां में शायद खोजा जा सकता है-

क्या खाक वो जीना है जो अपने ही लिये हो
खुद मिटके किसी और को मिटने से बचा ले
अपने पे भरोसा हैं तो ये दांव लगा ले

टूटे हुए पतवार हैं कश्ती के तो हम क्या
हारी हुई बाहों को ही पतवार बना ले
अपने पे भरोसा हैं तो ये दांव लगा ले

63 Replies to “अपने पर भरोसा है तो ये दांव लगा ले…”

  1. ernaehrungsumstellung im focus

    You are so interesting! I don’t believe I’ve truly read anything like this before. So nice to discover somebody with some original thoughts on this topic. Seriously.. many thanks for starting this up. This website is something that is needed on the web, someone with a little originality!

  2. NBA Basketball Jersey For Sale

    this site made everything Used to do to find it appear to be nothing. The reason being that this is such an informative post. I desired to appreciate this detailed read with the subject. I definitely savored every bit of it and i also perhaps you have bookmarked to see new items you post.

  3. Pingback: Asheville
  4. Education Technology

    I¡¦ve been exploring for a little for any high-quality articles or weblog posts in this kind of space . Exploring in Yahoo I eventually stumbled upon this site. Reading this information So i¡¦m happy to show that I have a very good uncanny feeling I found out exactly what I needed. I so much surely will make sure to don¡¦t put out of your mind this site and provides it a glance regularly.

  5. Dining Table Sets

    This is very interesting, You are a very skilled blogger. I have joined your feed and look forward to seeking more of your magnificent post. Also, I have shared your web site in my social networks!

  6. water exercises

    Thanks a bunch for sharing this with all people you really realize what you are talking about! Bookmarked. Please additionally talk over with my web site =). We can have a hyperlink exchange agreement between us!

  7. rap music

    Nice blog here! Also your website loads up fast! What web host are you using? Can I get your affiliate link to your host? I wish my website loaded up as fast as yours lol

  8. Natural Skin Care

    Thank you for sharing excellent informations. Your web-site is very cool. I am impressed by the details that you¡¦ve on this website. It reveals how nicely you understand this subject. Bookmarked this web page, will come back for extra articles. You, my pal, ROCK! I found just the information I already searched everywhere and simply could not come across. What a great site.

  9. walking exercise

    I haven¡¦t checked in here for some time since I thought it was getting boring, but the last several posts are great quality so I guess I will add you back to my everyday bloglist. You deserve it my friend 🙂

  10. android phone

    hey there and thank you for your information – I’ve definitely picked up anything new from right here. I did however expertise several technical issues using this site, since I experienced to reload the site many times previous to I could get it to load properly. I had been wondering if your web hosting is OK? Not that I am complaining, but sluggish loading instances times will very frequently affect your placement in google and could damage your high-quality score if advertising and marketing with Adwords. Anyway I am adding this RSS to my e-mail and can look out for much more of your respective intriguing content. Ensure that you update this again very soon..

  11. Financial Planning

    Hi, Neat post. There’s a problem with your web site in internet explorer, could test this¡K IE nonetheless is the market chief and a huge part of other people will leave out your wonderful writing due to this problem.

  12. european travel

    My wife and i were more than happy Jordan could conclude his analysis by way of the ideas he grabbed from your very own weblog. It’s not at all simplistic to simply always be releasing helpful hints that men and women might have been selling. And we all realize we’ve got the writer to appreciate for that. The illustrations you have made, the straightforward blog menu, the friendships you can assist to promote – it’s many terrific, and it is aiding our son and us imagine that this idea is awesome, which is certainly exceptionally vital. Thank you for the whole lot!

  13. Cork Flooring

    I have been surfing online more than 3 hours today, yet I never found any interesting article like yours. It’s pretty worth enough for me. Personally, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the net will be much more useful than ever before.

  14. best iphone apps

    You could certainly see your expertise in the paintings you write. The arena hopes for even more passionate writers like you who aren’t afraid to say how they believe. At all times go after your heart.

  15. bilingual education

    You could definitely see your expertise in the paintings you write. The arena hopes for more passionate writers such as you who aren’t afraid to say how they believe. At all times go after your heart.

  16. Search Engine Optimizatio

    I intended to put you a very little note in order to say thank you yet again for your personal wonderful thoughts you’ve provided on this page. It was quite extremely generous with people like you to give extensively what exactly a lot of folks could have distributed as an e book to help with making some dough for themselves, primarily seeing that you might well have done it in case you desired. These smart ideas likewise served as the easy way to understand that someone else have a similar dreams just like my very own to find out a lot more on the topic of this matter. Certainly there are lots of more pleasurable instances up front for folks who looked at your site.

  17. dining table set

    Someone essentially assist to make seriously articles I might state. That is the first time I frequented your website page and thus far? I amazed with the analysis you made to make this actual put up incredible. Excellent job!

  18. Summer Fashion

    Hiya, I’m really glad I’ve found this information. Nowadays bloggers publish only about gossips and internet and this is really annoying. A good web site with exciting content, that’s what I need. Thanks for keeping this website, I’ll be visiting it. Do you do newsletters? Cant find it.

  19. modern dining room

    Thank you for the sensible critique. Me & my neighbor were just preparing to do a little research on this. We got a grab a book from our local library but I think I learned more clear from this post. I’m very glad to see such magnificent info being shared freely out there.

  20. juvenile delinquency

    Good ¡V I should certainly pronounce, impressed with your website. I had no trouble navigating through all the tabs and related information ended up being truly easy to do to access. I recently found what I hoped for before you know it at all. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or something, web site theme . a tones way for your customer to communicate. Excellent task..

  21. Wireless Mouse

    Hi there, I found your web site by the use of Google at the same time as looking for a related topic, your site got here up, it looks good. I’ve bookmarked it in my google bookmarks.

  22. hairstyles for women

    Thank you for sharing superb informations. Your web site is very cool. I’m impressed by the details that you have on this website. It reveals how nicely you understand this subject. Bookmarked this web page, will come back for more articles. You, my pal, ROCK! I found simply the information I already searched all over the place and just couldn’t come across. What a perfect website.

  23. blues music

    We are a group of volunteers and starting a new scheme in our community. Your website provided us with valuable information to work on. You have done a formidable job and our whole community will be grateful to you.

  24. Designer Clothes

    I precisely needed to appreciate you again. I am not sure what I could possibly have followed without the actual aspects discussed by you on such subject matter. This was an absolute horrifying condition in my position, nevertheless seeing your specialized strategy you handled that made me to weep for fulfillment. Now i am happy for your guidance and as well , hope you recognize what a great job you’re carrying out educating men and women using your web page. I am sure you haven’t got to know all of us.

  25. Cialis pharmacy india

    Great goods from you, man. I’ve understand your stuff previous to
    and you are just extremely magnificent. I really like what you’ve acquired
    here, certainly like what you’re stating and the way in which you say it.
    You make it entertaining and you still take care of to keep it
    sensible. I can not wait to read far more from you.
    This is really a great web site.

    Visit my web site – Cialis pharmacy india

  26. canadian cialis

    It is appropriate time to make some plans for the future and it’s time to be happy.
    I’ve read this post and if I could I wish to
    suggest you some interesting things or suggestions.
    Perhaps you can write next articles referring to this article.
    I want to read more things about it!

    Here is my webpage … canadian cialis

  27. Discover More

    I just want to tell you that I am just new to blogging and really liked you’re blog site. Probably I’m want to bookmark your blog post . You surely come with fabulous stories. Appreciate it for sharing with us your website.

    • read this article

      I just want to tell you that I am just very new to blogging and really loved your website. Probably I’m planning to bookmark your blog . You really come with excellent posts. With thanks for revealing your blog site.

    • try this out

      I just want to tell you that I am just all new to blogs and definitely loved your page. Most likely I’m planning to bookmark your blog post . You amazingly have wonderful articles and reviews. Thank you for revealing your website.

Comments are closed.