Rare

सोशल मीडिया पर ‘अनायकों’ की महागाथाएं

काफ्का की कहानी ‘मेटामार्फोसिस’ का बेहद मामूली जिंदगी जीने वाला नायक एक सुबह जागता है और खुद को तिलचट्टे में बदला हुआ पाता है। मगर 2011 की एक सुबह इलाहाबाद के गोविंद तिवारी की नींद खुलती है तो पता चलता है कि वे रातों-रात एक ऑनलाइन सेलेब्रिटी में बदल चुके हैं। उनका नाम विश्वव्यापी ट्विटर ट्रेंड में शामिल हो चुका है। ट्विटर ट्रेंड में गोविंद तिवारी का नाम भारत में पहले और विश्व में पांचवें स्थान पर चमक रहा था।

हर कोई हैरान था और यह जानना चाहता था कि गोविंद तिवारी आखिर है कौन? शायद उतना ही मामूली इंसान जितना कि लगभग सौ साल पूर्व प्रकाशित उस कहानी का नायक। इलाहाबाद में फाफामऊ का यह लड़का सिर्फ पलक झपकाती तस्वीरों वाले अपने रंगबिरंगे एनीमेशन से भरे ‘सबसे बुरे डिजाइन वाले’ ब्लाग के कारण इंटरनेट पर छा गया और उस पर बने चुटकुले ‘रजनीकांत जोक्स’ को टक्कर देने लगे।

गोविंद तिवारी को मिली यह लोकप्रियता 14 साल की रेबेका ब्लैक की याद दिलाती है, जिसके ‘फ्राइडे’ गीत को यू-ट्यूब पर करीब 20 लाख बार देखा जा चुका है और 50 हजार से ज्यादा लोगों ने उसे नापसंद किया है। लगभग हर किसी ने इस गीत और उसके वीडियो की आलोचना की। उनके गीत को दुनिया का सबसे घटिया गीत बताया गया। यहां तक कि रेबेका को गुमनाम धमकियां भी मिलीं कि अगर उसने अपना वीडियो यू-ट्यूब से नहीं हटाया तो उसे जान से हाथ धोना पड़ेगा। हालांकि बाद में लेडी गागा जैसी पॉप सिंगर्स ने रेबेका को सराहा और उसकी प्रतिभा को मौलिक बताया। यह कुछ-कुछ एक सामूहिक मज़ाक जैसा लगता है, जैसे शेरिडॅन सिमोव की किताब ‘व्हाट एवरी मैन थिंक अबाउट अपार्ट फ्राम सेक्स’ के साथ हुआ। दो सौ पृष्ठ की इस किताब के भीतरी पृष्ठ बिल्कुल कोरे थे। जाहिर तौर पर यह एक मज़ाक था मगर अमाजोन में इसकी बिक्री का ग्राफ डैन ब्राउन और जेके रोलिंग से भी ऊपर चला गया।

यह तो बात हुई मज़ाक की, लौटते हैं कुछ गंभीर मसलों पर। अभी कुछ ही दिन बीते ‘ब्रोकेन मार्निंग’ नाम से ब्लागिंग करने वाली एक गुमनाम सी दक्षिण भारतीय युवती ने ‘ओपन लेटर टु ए डेल्ही ब्वाय’ नाम की पोस्ट से उत्तर भारतीयों की दिखावे की संस्कृति पर तंज किया तो उसके ब्लाग और सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर प्रतिक्रियाओं की भरमार लग गई। वह ट्विटर पर सबसे हॉट ट्रेंड बन गई न सिर्फ भारत में बल्कि विश्व के ट्विटर ट्रेंड्स में भी उस पर चल रही बहस का असर दिखा। उसकी इस पोस्ट पर ढाई हजार से उपर कमेंट्स देखे जा सकते हैं। हालांकि इस बहस के मिज़ाज का हल्कापन बरकरार रहता है। इंटरनेट पर इन्हीं दिनों एक जोक प्रचलित हुआ, “पहले बम-ब्लास्ट, फिर भूकंप और अब मद्रासन का ब्लाग… दिल्लीवासी आखिर कितने झटके सहेंगें?”

अगर आप गौर करें तो एक बात इन सबमें कॉमन है, ये सारे गुमनाम से चेहरे हैं। ‘अ फेस इन द क्राउड’, मामूली इंसान, भीड़ में कहीं धक्का भी लगे तो आप पलटकर न देखें। दूसरी दिलचस्प बात यह है कि इन्होंने कुछ भी असाधारण नहीं किया। न ही वे ऐसा कुछ करने का दावा करते हैं। गोविंद तिवारी और रेबेका ब्लैक की उकता देने वाली अति-साधारणता ही इंटरनेट पर मज़ाक बनकर छा गई। मगर इसके बाद यह घटना साधारण नहीं रह जाती। एक मद्रासी लड़की अपनी रोजमर्रा के अनुभवों को अपने पर्सनल ब्लाग में लिखती है और वह एक तीखी बहस में बदल जाता है। जो उस वक्त चल रही तमाम राजनीतिक-सामयिक घटनाओं पर भारी पड़ता है। इन परिघटनाओं को हम कैसे समझ सकते हैं? क्या यह सिर्फ किसी का मज़ाक उड़ाने की हमारी आदत का नतीजा भर है, जैसा कि सतही तौर पर देखने में महसूस भी होता है, या बात कहीं आगे जाती है।

आइए सन 2007 में आई फिल्म ‘भेजा फ्राई’ को याद करते हैं। यह मल्टीप्लेक्स की शुरुआती सफल ऑफबीट फिल्मों में भी गिनी जाती है। फिल्म में दर्शक भारत भूषण बने विनय पाठक पर खूब हंसे, मगर उस हंसी के पीछे कहीं-न-कहीं एक बेहद मामूली इंसान की सफलता भी थी। उसकी बेवकूफियां सभ्य समझी जाने वाली सोसाइटी का हास्यास्पद पहलू दिखाती हैं। ‘मैं आज़ाद हूं’ के नायक को रास्ता दिखाने के लिए एक मामूली से इंसान से जबरन महापुरूष में बदलना पड़ता है, मगर ‘पीपली लाइव’ का नायक अंत तक लाचार बना रहता है, वह महान बनाए जाने के प्रति विद्रोह कर देता है और वहां से भाग खड़ा होता है क्योंकि उसकी सहज बुद्धि उसे इसके पीछे चल रही साजिशों के प्रति सचेत करती रहती है। यानी चीजों को देखने की निगाह बदल गई है। एलीट क्लास की निगाह से सोसाइटी को देखने की बजाय आम लोगों की निगाह से देखना।

यह दरअसल एक सामूहिक तोड़फोड़ है। परंपरागत प्रतिमानों को बदलने की एक जिद है। मगर दिलचस्प बात यह है कि इन प्रयासों के कोई मुखिया, अगुआ या नेता नहीं हैं। जैसे बहती हवाओं का कोई स्रोत नहीं होता और वो आंधी बन जाती हैं। यह नया मीडिया है, जो सब कुछ तेजी से बदल रहा है। इसका सबसे बेहतर उदाहरण शायद आक्यूपाइ वॉल स्ट्रीट आंदोलन है। विश्व के इतिहास में शायद यह पहला आंदोलन है जिसका कोई नेता नहीं है। इसके पीछे वही आम लोग हैं तो जापान में आई सुनामी के कुछ ही क्षणों बाद सूचना और खबरों का सबसे विश्वसनीय स्रोत बन जाते हैं, ये वही हैं जो मुंबई ब्लास्ट में मदद के लिए हाथ बढ़ाते हैं। धमाकों की अफरा-तफरी के बाद जब वहां का मोबाइल नेटवर्क जाम हो गया तो ट्विटर पर मदद देने के लिए हाथ बढ़े। लोगों ने ठहरने के लिए अपने घर का पता, घर पहुंचाने के लिए अपनी कार और जरूरत पड़ने पर रक्तदान तक का प्रस्ताव दिया। अगर इंटरनेट पर मीडिया एक सामूहिक सामाजिक परिघटना में बदल चुका है तो फिर सौंदर्यशास्त्र से लेकर गुणवत्ता के मानदंड पुराने क्यों रहें?

कारनेल यूनीवर्सिटी ने एक खास प्रोग्राम की मदद से ट्विटर पर अपने नवीनतम शोध में यह साबित कर दिया कि सारी दुनिया में लोगों के मूड और मिजाज का एक खास पैटर्न होता है, जिसे पहचाना जा सकता है। यह लगभग तय है कि धीरे-धीरे सोशल मीडिया ही लोगों की सोच का पैमाना बनता जाएगा। यह किसी भी समाज की एक विराट धक-धक में बदल जाएगा या किसी हद तक बदल चुका है। शायद समाज विज्ञानियों को इसे नए सिरे से समझने की जरूरत पड़ेगी। इस धड़कन ने तमाम रास्ता दिखाने वाले मसीहाओं, इंटैलेक्चुअल समझे जाने वाले दंभी लोगों, गुरूर से भरे लेखकों और कलाकारों को उनकी सीमाओं का अहसास करा दिया है। गोविंद तिवारी और रेबेका ब्लैक खुद सारी जिंदगी अपनी लोकप्रियता की वजह नहीं समझ सकते। वे सिर्फ एक प्रतीक हैं, खास समझे जाने के प्रति विद्रोह का। एक आम आदमी की ताकत का एहसास कराता इसलिए नहीं कि वह खास है, इसलिए कि उसे ‘आम’ ही होना चाहिए।

Show More

Related Articles

2 Comments

  1. महत्वपूर्ण पोस्ट. नज़रिया बदल रहा है तो नज़ारा भी बदलेगा….. हमें आरम्भिक अराजकताओं से घबराना नही चाहिए.
    इस पोस्ट को अभी हाल ही मे सोशल मीडिय़ा (फेस्बुक, गूगल , ब्लोग्स्पोट) आदि के मामले को भारतीय कोर्ट तक पहुँचने के परिघटना के बरक्स भी देखा जाना चाहिए. चीन मे फेस्बुक पहले से प्रतिबन्धित है. क्या हमारी व्यवस्था , हमारा महान प्रजातंत्र एक *नेता* विहीन *संस्था* विहीन जनानान्दोलन को बर्दाश्त कर पाएगी ?

  2. यह लगभग तय है कि धीरे-धीरे सोशल मीडिया ही लोगों की सोच का पैमाना बनता जाएगा। यह किसी भी समाज की एक विराट धक-धक में बदल जाएगा या किसी हद तक बदल चुका है। शायद समाज विज्ञानियों को इसे नए सिरे से समझने की जरूरत पड़ेगी।

    निश्चित रूप से आपकी यह पोस्ट भी उसी नजरिये को आगे बढाने का एक कदम है …..आपके द्वारा लिखी गयी बातें प्रासंगिक हैं ….!

Leave a Reply

Back to top button
Close